देश के इतिहास में पहली बार एक साथ हुयी सुप्रीम कोर्ट के चार न्यायाधीशों की प्रेस कांफ्रेंस, लोगतंत्र खतरे में, khabarspecial news, khabar special online hindi news, hindi samachar, hindi khabar, दीपक मिश्रा, प्रेस कॉन्फ्रेंस में जस्टिस रंजन गोगई जस्टिस कुरियन जोसेफ, जस्टिस चमलेश्वर और जस्टिस मदन भीमराव मौजूद रहे, Supreme court, serinor judges, cji, deepak mishra, chief justice of india, breaking news, सीजेआई दीपक मिश्रा, सुप्रीम कोर्ट, India News in Hindi, Latest India News Updates, खबरस्पेसल, खबर स्पेसल हिंदी खबर, देश के चार न्यायधीश एक साथ

नई दिल्ली, खबरस्पेसल न्यूज़: देश के इतिहास में पहली बार सुप्रीम कोर्ट के चार मौजूदा न्यायाधीशों ने मीडिया के सामने अपनी बात रखी और कहा कि सब कुछ ठीक नहीं है.

जजों ने पिछले दो महीने के बिगड़े हालातों पर अपनी बात रखने के लिए प्रेस का सहारा लिया और कहा कि सुप्रीम कोर्ट की व्यवस्था ठीक नहीं चल रही है.

यह भी पढ़ें: नहीं रहे मशहूर साहित्यकार दूधनाथ सिंह, हार्टअटैक और कैंसर था मुख्य कारण, ये थीं प्रमुख कृतियां

जजों का इशारा सीधे सीधे चीफ जस्टिस की ओर था। हालांकि चारों जजों के सामने आने के बाद अब चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा भी मीडिया के सामने आकर अपनी बात रखेंगे। खबर है कि दो बजे वह भी प्रेस कान्फ्रेंस कर अपना पक्ष रखेंगे, इस दौरान उनके साथ अटार्नी जनरल भी मौजूद रह सकते हैं.

इससे पूर्व प्रेस कॉन्फ्रेंस में जस्टिस रंजन गोगई जस्टिस कुरियन जोसेफ, जस्टिस चमलेश्वर और जस्टिस मदन भीमराव मौजूद रहे, जिसमें उन्होंने नाराजगी जताते हुए कहा कि न्यायपालिका में कुछ ठीक नहीं है और अगर ऐसा ही रहा तो लोकतंत्र नहीं चल सकता। जजों ने कहा- कल को कोई ऐसा न कह दे की हमने अपनी आत्मा बेच दी है.

यह भी पढ़ें: तरिक्ष में भारत का शतक, आई इन द स्काई सैटेलाइट लॉन्च, ब्रिटेन-US समेत 6 देशों के 28 सैटेलाइट भी लॉन्च

जस्टिस चेलमेश्वर ने कहा कि हम नहीं चाहते कि हम पर कोई सवाल उठाए और न्यायपालिका की निष्ठा पर सवाल उठे। उन्होंने कहा कि हमने कई बार गड़बड़ियों को लेकर CJI से शिकायत की, लेकिन सब बेकार चला गया.

किसी देश के लोकतंत्र के लिए जजों की स्वतंत्रता जरूरी है, इन हालात में तो लोकतंत्र सरवाइव नहीं कर पाएगा. जब मीडिया ने जस्टिस लोया की संदिग्ध मौत पर सवाल उठाया तो जस्टिस रंजन गोगई ने कहा कि केस को अलॉट किए जाने की जरूरत है.