भारत के 48 सांसद-विधायकों पर हैं महिला अपराध के ये केस, रिपोर्ट में भाजपा नेताओं की संख्या सबसे ज्यादा, khabarspecial.com, khabarspecial online hindi news, today's breaking news, Adr report, lawmakers, mlas, mps, crime against women, bjp, congress, trinamool congress, bsp, association for democratic reforms, महिला अपराध के केस, एडीआर रिपोर्ट, तृणमूल कांग्रेस, भाजपा, India News in Hindi, Latest India News Updates, खबरस्पेसल.कॉम, खबर स्पेसल हिंदी न्यूज़, खबरस्पेसल ऑनलाइन हिंदी समाचार, हर खबर खास है, आज की सबसे बड़ी खबर, एसोसिएशन फार डेमोक्रेटिक रिफार्म (एडीआर), दुष्कर्म के आरोप

नई दिल्ली, खबरस्पेसल न्यूज़, अजित सिंह, 20-अप्रैल’2018: भारत में महिलाओं के प्रति आपराधिक केसों में बृद्धि आयी है, एक रिपोर्ट के अनुसार देश के 48 सांसद और विधायकों पर महिलाओें के खिलाफ अपराध के केस हैं। भाजपा में ऐसे नेताओं की संख्या सबसे ज्यादा 12 है.

यह भी पढ़ें: किंग शाहरुख खान ने इस तरह तबाह की इस लड़की की जिंदगी, यूं बताई पूरी दास्तान

उन्नाव में सत्ताधारी विधायक पर लगे दुष्कर्म के आरोप समेत देश में बढ़ते रेप के खिलाफ गुस्से के बीच एसोसिएशन फार डेमोक्रेटिक रिफार्म (एडीआर) ने यह रिपोर्ट जारी की है. रिपोर्ट के मुताबिक देश के 33 फीसदी यानी 1580 सांसद-विधायक ऐसे हैं, जिनके खिलाफ आपराधिक मामले दर्ज हैं.

इनमें से 48 महिलाओं के खिलाफ अपराध के  आरोपी हैं, जिनमें 45 विधायक और तीन सांसद हैं। इसमें महिला उत्पीड़न, अगवा करने, शादी के लिए दबाव डालने, बलात्कार, घरेलू हिंसा और मानव तस्करी जैसे अपराध शामिल हैं.

पार्टियों के लिहाज से देखें तो भाजपा के सबसे ज्यादा 12 सांसद-विधायकों के खिलाफ केस दर्ज हैं। वहीं इसके बाद शिवसेना के सात और तृणमूल कांग्रेस के छह जनप्रतिनिधि महिलाओं के खिलाफ अपराध के दागी हैं. यह रिपोर्ट देश के कुल 4845 जनप्रतिनिधियों में से 4896 के चुनावी एफिडेविट के विश्लेषण पर आधारित है.

यह भी पढ़ें: दास देव में ऐसे खुलेगी द्रोपदी की साड़ी, राजनितिक प्रभाव के चलते ऐसे बदलेगा द्रोपदी का इतिहास, जानिये इसकी बड़ी वजह

इसमें कुल 776 सांसदों में से 768 सांसद और 4120 विधायकों में से 4077 विधायकों के हलफनामे हैं. रिपोर्ट के मुताबिक सभी बड़ी राजनीतिक पार्टियां महिलाओं के खिलाफ अपराध के आरोपियों को टिकट दे रही हैं, इसलिए नागरिक के रूप में महिलाओं की सुरक्षा और सम्मान को चोट पहुंचा रही हैं.

एडीआर ने सलाह दी है कि गंभीर अपराध के आरोपियों के चुनाव लड़ने से रोक होनी चाहिए। राजनीतिक दलों को भी इन्हें टिकट नहीं देना चाहिए. राज्यवार देखें तो महाराष्ट्र के सबसे ज्यादा 12 सांसद और विधायक आरोपी हैं। इसके बाद पश्चिम बंगाल के 11, ओडिशा और आंध्र प्रदेश के पांच-पांच जनप्रतिनिधि महिलाओं के खिलाफ अपराध के आरोपी हैं.

पिछले पांच साल में दागी उम्मीदवारों को मिले टिकट
रिपोर्ट के मुताबिक पिछले पांच साल में रेप के आरोपी 28 नेताओं को विभिन्न दलों से टिकट मिले। रेप के आरोपी 14 नेताओं ने निर्दलीय लोकसभा, राज्यसभा और विधानसभा के चुनाव लड़े.

यह भी पढ़ें: इस तरह हिट हुआ बिग बॉस के प्रियांक का रोमांस, सिंगर आस्था और बादशाह के सपोर्ट से मचाई सनसनी, Video हुआ वायरल

वहीं पिछले पांच साल में महिलाओं के खिलाफ अपराध के दागी 327 को टिकट मिला और 118 ऐसे नेताओं ने निर्दलीय चुनाव लड़ा। पांच साल में महिलाओं के खिलाफ अपराध के आरोपी 47 नेताओं को भाजपा ने, 35 को बसपा ने और 24 को कांग्रेस ने टिकट दिया.

 

=====================================================

ताजा और लेटेस्ट खबरों के लिये हमारे चैनल खबरस्पेसल.कॉम को सब्सक्राइब करें : खबरस्पेसल.कॉम, खबर स्पेसल ऑनलाइन हिंदी समाचार, हर खबर खास है, खबरस्पेसल न्यूज़ पर हर खबर खास है

=====================================================