एक ट्वीट ने मचा दिया हंगामा, कहा जल्द ही हिंदुओं के चिता जलाने पर भी रोक लग सकती है, soon there will be ban on hindu cremations tripura governor on cracker ban, khabar special fire crackers, diwali crackers, Chetan Bhagat, crackers, Diwali 2017, SC Ban on crackers, Supreme Court bans sale of Crackers, tathagata roy, त्रिपुरा के गवर्नर तथागत रॉय

खबरस्पेशल न्यूज़ रिपोर्ट: अपने ट्वीट्स के कारण चर्चा में रहने वाले त्रिपुरा के गवर्नर तथागत रॉय के एक ताजा ट्वीट से एक बार फिर सोशल मीडिया पर भूचाल आ गया है.

उन्होंने दिल्ली एनसीआर में सुप्रीम कोर्ट द्वारा लगाए गए पटाखों की बिक्री पर बैन के बाद कहा कि जल्द ही हिन्दुओं के अंतिम संस्कार पर भी रोक लग सकती है.

सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर गौर करते हुए उन्हें इसमें एक सांप्रदायिक साजिश की बू भी नजर आई जो एक के बाद एक हिन्दू अनुष्ठानों को निशाना बना रही है.

यह भी पढ़ें: वीडियो: पुलिस वाले ने डयूटी पर शराब पीकर थाने में किया कुछ ऐसा सब रह गये दंग

मंगलवार को उन्होंने ट्विट करते हुए लिखा, ‘कभी दही हांडी, आज पटाखा, कल को हो सकता है प्रदूषण का हवाला देकर मोमबत्ती और अवार्ड वापसी गैंग हिंदुओं की चिता जलाने पर भी याचिका डाल दे!’

Image result for firecrackers
मीडिया से बात करते हुए तथागत रॉय ने कहा कि एक हिन्दू के रूप में, पटाखों पर लगे प्रतिबंधों से अप्रसन्नता होती है. लेकिन उन्होंने अपने ट्वीट का बचाव करते हुए कहा, ‘मैंने अपनी संवैधानिक सीमा पार नहीं की है. मैं अपनी राय रखने का हकदार हूं.’

यह भी पढ़ें: जुबैर Bigg Boss को लेकर किया सबसे बड़ा खुलासा, सरकारी नौकरी की तरह थी पेंशन स्कीम

दिल्ली की आबो हवा की चिंता के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा कि वो राजधानी की स्थिति से अवगत हैं. साथ ही तर्क दिया कि दिवाली साल में केवल एक बार ही आती है.

Image result for गवर्नर तथागत रॉय

गौर हो कि सुप्रीम कोर्ट ने पिछले साल की तरह राजधानी को जहरीली हवा से बचाने के लिए सोमवार को दिल्ली-एनसीआर में पटाखों की बिक्री पर एक नवंबर तक के लिए बैन लगा दिया. कोर्ट ने कहा कि हमें कम से कम एक बार दिवाली में पटाखे मुक्त उत्सव के प्रभाव को देखना चाहिए.

यह भी पढ़ें: बेइंतहा दर्द है इनकी मोहब्बत में, इनका जीवन किसी रहस्य से कम नहीं है, जानिये इनकी जिंदगी के सबसे भावुक पल

सुप्रीम कोर्ट के इस फैसले को लेकर सोशल मीडिया पर कई लोगों ने इसकी निंदा की और इसे हिन्दू धर्म पर अतिक्रमण बताया. इस बीच हैशटैग इस्लामिक रूल के साथ लोगों ने ट्वीट करना शुरू किया जो की पूरे दिन ट्रेंड में रहा.

इस कड़ी में लेखक चेतन भगत भी ट्वीट कर शामिल हो गए. उन्होंने ट्वीट किया, ‘क्या मैं पटाखों की पाबंदी पर एक सवाल पूछ सकता हूं. सिर्फ हिंदू त्योहारों में ही ऐसा करने की हिम्मत क्यों आती है? मुहर्रम पर बकरों की बलि पर भी रोक लगे.’

Image result for chetan bhagat

जब एक ट्विटर यूजर ने भगत को बताया कि पटाखे से प्रदूषण होता है, तो लेखक ने सुझाव दिया कि प्रदूषण से निपटने के लिए और भी बेहतर तरीके हैं.

तथागत रॉय ने कहा कि यह हमारा सबसे बड़ा त्योहार है जो साल में एक बार आता है. उन्होंने तर्क दिया कि उबर ने किसी भी प्रतिबंध से अधिक प्रदूषण बचाया है. इसलिए हमें प्रतिबंध के बजाय नए इनोवेशन का इजात करना चाहिए.

यह पहली बार नहीं है जब तथागत रॉय के किसी बयान से विवाद खड़ा हुआ हो. कुछ महीने पहले, उन्होंने श्यामा प्रसाद मुखर्जी की एक डायरी का वो अंश ट्वीट किया था जिसमें उन्होंने हिंदू-मुस्लिम समस्या के अंत के लिए गृहयुद्ध की बात कही थी.