सुषमा स्वराज ने संसद में किया खुलासा- इराक के मोसुल में लापता हुए सभी 39 भारतीय मारे गए, khabarspecial.com, khabarspecial hindi news, online hindi samachar, Sushma swaraj, indians missing in mosul, mosul iraq, mosul, iraq, sushma swrajj, iraq, indian, isis, 39 भारतीय नागरिक मारे गए हैं, सभी शवों को डीप पेनिट्रेशन राडार के जरिए खोज लिया, शवों के अवशेष को बगदाद भेजा गया, शवों के अवशेष लाने वाला विमान पहले अमृतसर, फिर पटना और कोलकाता जाएगा, खबरस्पेसल.कॉम, खबरस्पेसल, ऑनलाइन समाचार

नई दिल्ली, खबरस्पेसल न्यूज़ (अजित सिंह): विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने मंगलवार को कहा कि इराक के मोसुल में लापता हुए 39 भारतीय मारे जा चुके हैं। उन्होंने यह बात राज्यसभा में कही। दरअसल, मोसुल से 39 भारतीयों के लापता होने की खबर सामने आई थी.

यह भी पढ़ें: मुंबई में छात्रों ने नौकरी ना देने का आरोप लगते हुए इस तरह से किया विरोध प्रदर्शन, रेल सेवाएं पूरी तरह से ठप

उस वक्त विदेश मंत्री की तरफ से इराक की किसी जेल में भारतीय नागरिकों के बंद होने की संभावना जताई गई थी। ये सभी नागरिक साल 2014 से ही इराक से लापता हुए थे.

39 भारतीय की मौत पर Live Update:-

11:44 AM: सुषमा स्वराज के राज्यसभा में बयान के कुछ देर बाद हंगामा, सदन की कार्यवाही पूरे दिन के लिए स्थगित.

11:44 AM: कांग्रेस नेता शशि थरूर ने दुख जताते हुए कहा, सरकार ने क्यों साढ़े तीन सालों तक देश को झूठी उम्मीद में रखा की वो जिंदा हैं? यह निराशाजनक व्यवहार था.

11:40 AM: पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने 39 भारतीयों की मौत पर जताया दुख

11:20 AM: विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने 39 लोगों के मारे जाने की पुष्टि की

2014 से लापता थे भारतीय

जून 2014 में आतंकवादी संगठन इस्लामिक स्टेट (आईएस) के मोसुल शहर पर कब्जा करने के बाद से 39 भारतीय शहर से लापता हो गए थे. आपको बता दें कि भारतीय विदेश राज्य मंत्री जनरल वीके सिंह ने अक्टूबर और जुलाई में इराक का दौरा किया था.

सुषमा ने जुलाई में कहा था, “मैं दोहराती हूं कि मैं उन्हें (लापता भारतीयों) तब तक मृत घोषित नहीं करूंगी, जब तक हमें इस बारे में पुख्ता सबूत नहीं मिल जाते.”

यह भी पढ़ें: दिल्ली के जेएनयू छेड़छाड़ यौन शोषण के मामला में प्रदर्शन कर रहे छात्रों की पुलिस के साथ हुयी इस तरह की मुठभेड़, पुलिस ने दर्ज किए 161 छात्राओं के बयान

इराक के मोसुल से सिर्फ 88 किलोमीटर दूर कुर्दिस्तान की राजधानी इरबिल में पहुंचा था. तब तक मोसुल ISIS के कब्जे में पहुंच चुका था. इस आतंकी संगठन ने भारतीय मजदूरों को अगवा किया था. ज्यादातर मजदूर पंजाब के रहने वाले थे और 3700 किलोमीट दूर रोजी की तलाश में मोसुल पहुंचे थे.

पहले थी जेल में होने की उम्मीद
विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने उम्मीद जताई थी कि जिन 39 भारतीयों का अपहरण किया था वह इराक की जेल में कैद हो सकते हैं. पीड़ितों के परिवार वालों के साथ बात करने के बाद सुषमा ने कहा था कि ये लोग बदुश जेल में कैद हो सकते हैं. बदुश, मोसुल से 31 किलोमीटर की दूरी पर है.

यह भी पढ़ें: BCCI ने मोहम्मद शमी का किया ये बड़ा खुलासा, दुबई के होटल में किया था ये काम

विदेश राज्यमंत्री वीके सिंह ने बगदाद में इराक के विदेश मंत्री इब्राहिम अल जाफरी से मुलाकात की थी और विदेश मंत्री सुषमा स्वराज का एक पत्र उन्हें सौंपा था.

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा था कि इराक में भारत के राजदूत और अरबिल में महावाणिज्य दूत (Consul General) को प्राथमिकता के साथ भारतीय नागरिकों का पता लगाने के प्रयास करते रहने के निर्देश दिये गये हैं.