khabarspecial/torture-clinic-ecuador-cure-homosexuality-by-raping-lesbian-देश में लेस्बियन को बीमार माना जाता है ... इलाज के नाम पर उनका रेप किया जाता है

नई दिल्ली, लेस्बियन एक बीमारी: आज-कल देश में जेंडर बदलने का जैसे एक क्रेज सा चल रहा है आज लोग खुद अपने जेंडर से खुश नहीं है और दूसरों के प्रति आकर्षित हो रहे हैं. कुछ लोगों का मानना है कि जेंडर बदलना करना एक बीमारी है जो देश में बहुत तेजी से बढ़ रही है.

आज के समय में दुनिया के लोग मॉडर्न होने का दावा करते हैं कई जगहों पर गे और लेस्बियन होना अब नॉर्मल माना जाने लगा है, लेकिन अभी भी ऐसे कई देश हैं, जहां होमोसेक्शुअलिटी को गुनाह और गे-लेस्बियन को अपराधी माना जाता है.

बाढ़ और बारिश से परेशान आधा हिंदुस्तान, गुजरात में 100 से ज्यादा लोगों की मौत

साउथ अमेरिका के इक्वाडोर में इसे बीमारी माना जाता है। इसके इलाज के लिए किसी डॉक्टर के पास नहीं, बल्कि टॉर्चर हाउस ले जाया जाता है, जहां इसका इलाज किया जाता है.

फोटोग्राफर पाओला परेड्स ने इस देश में गे-लेस्बियन्स की जिंदगी पर एक सीरीज जारी की है। इस फोटो सीरीज में उन्होंने इन लोगों का दर्द दिखाया है। पाओला खुद लेस्बियन हैं.
Related image
3 साल पहले उन्होंने अपनी फैमिली को इसके बारे में बताया था। उनके रिएक्शन को रिकॉर्ड करने के लिए उन्होंने 3 कैमरा सेट किए थे.
जब उन्होंने अपने परिवार का रिएक्शन तस्वीरों के जरिए दुनिया को दिखाया तो कई लोगों ने उनके साथ अपने पर्सनल एक्सपीरियंस शेयर किए. तब उन्होंने Unveiled नाम का फोटो सीरीज लॉन्च करने का फैसला किया.
Image result for लेस्बियन
उन्हें अपने दोस्तों के जरिए इक्वाडोर के उन सेंटर्स के बारे में पता चला, जहां इलाज के नाम पर होमोसेक्शुअल लोगों को यातनाएं दी जाती हैं। इन सेंटर्स में गे-लेस्बियन्स को इमोशनली और फिजिकली टॉर्चर किया जाता है.
इस देश में लेस्बियन को माना जाता है बीमार, इलाज के नाम पर करते हैं रेप
उन्हें जबरदस्ती खाना खिलाया जाता है। सबसे बुरी बात तो ये है कि अपोजिट सेक्स के प्रति आकर्षण जगाने के लिए इनका सामूहिक रेप किया जाता है। इलाज एक नाम पर मानवता के सभी दायरे इन सेंटर्स में लांघ दिए जाते हैं.
फोटोग्राफर इन सेंटर्स को अपनी आंखों से देखना चाहती थी। वो जानती थी कि अगर वहां किसी को पता चल गया कि वो भी लेस्बियन हैं, तो हो सकता है उन्हें वहां कैद कर लिया जाता.
Image result for लेस्बियन
उन्होंने अपनी ब्रा में हिडन डिवाइस लगाया और एक सेंटर पर पहुंची। वहां इलाज के नाम पर लोगों को बेरहमी से टॉर्चर किया जाता था। तब उन्होंने उनका दर्द सभी के सामने लाने का फैसला किया। ये तस्वीरें वहां होने वाले अन्याय की एक बानगी भर है।