विडियो: सरेआम सीबीआई से भीड़ गए पुलिस वाले, फिर ऐसा हुआ हंगामा, ड्रामा के बीच सीबीआई के वरिष्ठ अधिकारी ने सनसनीखेज खुलासा, Khabarspecial Hindi News, Khabarspecial Samachar, Kolkata Police,Kolkata Police Commisisoner,Kolkata police Vs CBI,Rajeev Kumar,Kolkata Police Chief Rajeev Kumar,Rajeev Kumar Kolkata police commissioner,West bengal,Mamta Banerjee,Sarda chitfund scam,Sarda chit fund scam,कोलकाता पुलिस,कोलकाता पुलिस कमिश्नर,कोलकाता पुलिस प्रमुख की तलाश,राजीव कुमार,सीबीआई,ममता बनर्जी,ममता बनर्जी का केंद्र से टकराव,सारदा चिट फंड,सारदा चिटफंड घोटाला,सारदा चिट फण्ड,कोलकाता पुलिस सीबीआई विवाद

नई दिल्ली, खबरस्पेशल न्यूज़, अजित सिंह, 5-फरवरी’2019: कोलकाता में जारी सियासी ड्रामा के बीच सीबीआई के वरिष्ठ अधिकारी ने सनसनीखेज खुलासा किया है. केंद्रीय जांच एजेंसी CBI के एक वरिष्ठ अधिकारी ने नाम न छापने की शर्त पर कहा कि कल जब सीबीआई की टीम पुलिस कमिश्नर राजीव कुमार (Rajeev Kumar) के घर पहुंची थी तब पुलिसकर्मियों ने उन्हें हिरासत में लेने के बाद उनपर दबाव डालना शुरू कर दिया.

यह भी पढ़ें: क्या आप जानते हैं दिमागी तौर पर महिलाओं के मुकाबले 3 साल पहले बूढ़े हो जाते हैं पुरुष, कैसे ? जानिए यहाँ पर

कोलकाता पुलिस (Kolkata Police) के अधिकारी सीबीआई टीम पर उनकी ‘जांच योजना’ का खुलासा करने के लिए दबाव डाल रही थी. सीबीआई टीम के अधिकारियों को कुछ घंटों तक हिरासत में रखा गया. सीबीआई अधिकारी के मुताबिक इस दौरान कोलकाता पुलिस (Kolkata Police) के अधिकारियों ने सीबीआई टीम पर लगातार दबाव बनाना जारी रखा.

अधिकारी ने कहा, ‘‘कोलकाता पुलिस द्वारा जानबूझकर, बलपूर्वक, डाली गई बाधा के चलते सीबीआई अपनी कार्रवाई पूरी नहीं कर सकी और उसे वापस लौटना पड़ा”. सीबीआई अधिकारी के मुताबिक एजेंसी ने 3 बार पत्र लिखकर कमिश्नर राजीव कुमार (Rajeev Kumar) से मौजूद रहने के लिए कहा था जो कि चिटफंड घोटाले की जांच करने वाली कोलकाता पुलिस की विशेष जांच टीम के सदस्य थे.

विडियो: 1948 में आजाद भारत का सबसे पहला महाकुम्भ मेला

एक अन्य अधिकारी ने बताया कि उनसे कोई ‘‘सकारात्मक जवाब” नहीं मिलने पर सीबीआई के 11 अधिकारियों की एक टीम दो स्वतंत्र गवाहों और सहायता कर्मियों के साथ रविवार शाम पौने छह बजे कुमार के आवास के बाहर पहुंची, जहां का प्रवेशद्वार उन्हें बंद मिला.

अधिकारी ने बताया कि सीबीआई के कुछ अधिकारी शाम छह बजे शेक्सपीयर सरनी पुलिस थाने गए और स्थानीय पुलिस को अपने दौरे के बारे में सूचना देते हुए सहयोग मांगा और उसके लिए अभिस्वीकृति मांगी. संबंधित अधिकारी ने उन्हें अभिस्वीकृति देने से इनकार कर दिया.

यह भी पढ़ें: बॉलीवुड की क्वीन कंगना ने फिर खोला बॉलीवुड का काला चिट्ठा, सोनू सूद और डायरेक्टर क्रिश भी लपेटे में

इस बीच पुलिस आयुक्त के आवास के बाहर खड़े सीबीआई उप अधीक्षक तथागत वर्धन ने मुख्यद्वार की सुरक्षा में खड़े एक पुलिसकर्मी से पूछा कि क्या कुमार अंदर हैं. यह पूछे जाने पर पुलिसकर्मी वर्धन को सड़क पर पुलिस के एक वाहन के पास ले गया और उनसे उसमें बैठने को कहा. जब वर्धन ने कहा कि उनसे इस तरह से जबर्दस्ती नहीं की जा सकती तो पुलिसकर्मियों ने उन्हें वाहन में धकेल दिया.

इसके बाद सीबीआई टीम ने तब अपने पुलिस अधीक्षकों पार्थ मुखर्जी (आर्थिक अपराध प्रथम) और प्रमोद कुमार मांझी (भ्रष्टाचार निरोधक शाखा), भुवनेश्वर को मदद के लिए बुलाया. दोनों कोलकाता के दौरे पर थे. दोनों अधिकारी पुलिस थाने पहुंचे और इस बात पर जोर दिया कि अभिस्वीकृति मुहैया करायी जानी चाहिए और पुलिस को सीबीआई टीम को जांच पूरी करने में मदद करनी चाहिए.

यह भी पढ़ें: भारत को माल्या पर मिली बड़ी कामयाबी, यूके सरकार ने प्रत्यर्पण को दी मंजूरी

सीबीआई ने कोलकाता पुलिस के दो डीसीपी मुरलीधर शर्मा और मिराज खालिद से भी सम्पर्क किया लेकिन उन्होंने भी ‘सहयोग नहीं किया’. आपको बता दें कि सीबीआई की कार्रवाई से नाराज बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी (Mamta Banerjee) धरने पर बैठ गई हैं. कोलकाता में इस मामले को लेकर उठापटक जारी है.

================================================

सिर्फ एक क्लिक करके पढ़े आज की सभी बड़ी खास खबरें :  क्लिक करें

महिला से दुष्कर्मयहाँ क्लिक करें और देखें बॉलीवुड की सबसे बड़ी खबर ख़बरें :  बॉलीवुड लेटेस्ट न्यूज़

क्या आप जानते हैं दिमागी तौर पर महिलाओं के मुकाबले 3 साल पहले बूढ़े हो जाते हैं पुरुष, कैसे ? जानिए यहाँ पर