वीडियो: देखिये आईपीएल चीयरलीडर्स की जिंदगी की हकीकत, सच है हकीकत से कोसों दूर, ऐसी भी जिदंगी होती है, ये कहानी आईपीएल की चकाचौंध की है जो ग्लैमर में गुम हो जाती है और आप तक पहुंच नहीं पाती। कहानी उन चीयरलीडर्स की जो हर साल विदेशों से आईपीएल का हिस्सा बनने आती हैं.Ipl 2019, khabarspecial samachar, खबरस्पेशल हिंदी समाचार, ब्रह्मस्वरुप सिंह की खास रिपोर्ट, ipl cheerleaders, cheerleader truth, ipl season 12, csk cheerleaders, delhi daredevils cheerleaders, ms dhoni, virat kohli, rohit sharma, srh, cheerleader salary, cheerleader dress, cheerleader life, cheerleader country, sports news, आईपीएल 2019, आईपीएल चीयरलीडर्स, चीयरलीडर्स की सच्चाई, आईपीएल सीजन 12, सीएसके चीयरलीडर्स, एमएस धोनी, विराट कोहली, रोहित शर्मा, सनराइजर्स हैदराबाद, चीयरलीडर्स की तनख्वा, चीयलरीडर्स की ड्रेस, चीयरलीडर्स की जिंदगी, चीयरलीडर्स का देश, स्पोर्ट्स न्यूज#IPLCheerLeaderPersonalLife #khabarspecialNews #CheerLeaderLife #SportsNews #चीयरलीडर्सकीजिंदगी #आईपीएलचीयरलीडर्स

नई दिल्ली, खबरस्पेशल न्यूज़, अजित सिंह, 14-अप्रैल’2019: कितने प्रतिशत लोग जानते हैं की टीवी पर दिखने वाले सेलिब्रिटीज की जिंदगी कैसी होती है या फिर क्रिकेट के मैदान में छक्के चोक्के पर नाचने वाली चीयरगर्ल्स की जिंदगी कैसी होती है. चीयरगर्ल्स को देखकर लगता है की वो कितनी खुश है और हम लोग उन्हें टीवी पर डांस करते देख यही सोच लेते हैं की इनकी जिंदगी बहुत अच्छी है लेकिन असल जिंदगी इसके बिलकुल बिपरीत है. ब्रह्मस्वरुप सिंह की खास रिपोर्ट..

सेहत स्पेशल में आज: गर्मी में इन रसीले फलों का करेंगे सेवन तो बच सकते हैं इस खतरनाक बीमारी से, जानें इनके फायदों के बारे में

हर साल जब भी आईपीएल आता है तो अपने साथ कई रंग लेकर आता है। जैसे विदेशी खिलाड़ियों का देसी रंग में घुलना, स्टेडियम में क्रिकेट के शोर में चीयरलीडर्स का ग्लैमर मिलना, या फिर घरेलू क्रिकेट खेल रहे खिलाड़ियों के लिए अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भारत की जर्सी पहनने का ख्वाब देखना. आईपीएल में अपने प्रदर्शन के बूते अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भारतीय टीम में जगह पाने की कई खिलाड़ियों की कहानी आप सुनते-पढ़ते रहते हैं.

सबसे पहले ये वीडियो देखें:

वीडियो: बीजेपी लीडर स्मृति ईरानी की जिंदगी का कड़वा सच, जानकर हैरान रह जायेंगे

लेकिन जो कहानी हम बताने जा रहे हैं वो ना ही केन विलियम्सन या ऋषभ पंत के आईपीएल में बनाए रनों का विश्लेषण है, ना ही किसी खिलाड़ी के प्रदर्शन पर विशेष टिप्पणी है और ना ही इस बार वर्ल्ड कप के लिए चुने गए किसी खिलाड़ी की उपलब्धियों का बखान है.

चीयरलीडर्स

बल्कि ये कहानी आईपीएल की चकाचौंध की है जो ग्लैमर में गुम हो जाती है और आप तक पहुंच नहीं पाती। कहानी उन चीयरलीडर्स की जो हर साल विदेशों से आईपीएल का हिस्सा बनने आती हैं। इनके बारे में बात तो सब करते हैं, लेकिन क्या कभी इनको जानने की कोशिश की है.

वीडियो: बाबा साहेब भीमराव अंबेडकर के जीवन से जुड़ी खास बातें जो देश हित में रही हैं

CHEERLEADER

पिछले साल आईपीएलम में 8 टीमों में से 6 टीमों की चीयरलीडर्स विदेशी मूल की थीं जबकि चेन्नई सुपर किंग्स और राजस्थान रॉयल्स के चीयरलीडर्स देसी मूल के रहे। क्या आप जानते हैं कि आईपीएल में ज्यादादातर चीयरलीडर्स यूरोप से आतीं हैं ना की रूस से। कुछ चीयरलीडर्स जो पहले डांसर हुआ करती थीं उन्होंने बाद में चीयरलीडर्स का प्रोफेशन ज्वॉइन किया.

रियो दे जनरियो में मियामी डॉल्फिन के लिए चल रहे ऑडिशन के दौरान

चीयरलीडर्स का प्रोफेशन स्पोर्ट्स से कम नहीं है। खिलाड़ी की तरह इन्हें अपना शरीर लचीला बनाए रखने के लिए काफी ट्रेनिंग करनी पड़ती है। ये उतनी ही मेहनत और ट्रेनिंग करते हैं जितनी की मैदान पर खेल रहा खिलाड़ी करता है.

ब्रेकिंग न्यूज़: प्रधान मंत्री मोदी और नीतीश कुमार का प्यार लैला-मजनू से भी ज्यादा मजबूत है

जब पुरुष हुआ करते थे चीयरलीडर
चीयरलीडिंग का कल्चर अमरीका में सबसे ज्यादा प्रसिद्ध है। यूरोप में भी होने वाले खेलों में इसका चलन है। आपको ये जानकर हैरानी होगी कि चीयरलीडिंग की शुरुआत अमरीका की यूनिवर्सिटी ऑफ मिनिसोटा में हुई थी और इसकी शुरुआत किसी महिला ने नहीं बल्कि पुरुष ने की थी जिनका नाम जॉन कैंपबल था.

Cheerleaders

यही नहीं, जो चीयर स्क्वॉड उन्होंने बनाया था उसमें सब पुरुष थे। हालांकि 1940 के बाद द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान पुरुषों को युद्ध के लिए सीमा पर जाना पड़ा था जिसके बाद महिलाओं की बतौर चीयरलीडर्स भर्ती होने लगी.

CHEERLEADERखैर इतिहास से आपको वर्तमान में वापस लेकर चलते हैं और अब बात करते हैं चीयरलीडर्स की आमदनी की। क्या आपको मालूम है कि ये चीयरलीडर्स एजेंसियों के जरिए यहां आती हैं और इन्हीं एजेंसियों से करार किया जाता है.

ईपीएल में विदेशी मूल की चीयरलीडर लगभग 1500-2000 पाउंड यानी लगभग एक लाख 80 हजार रुपए हर महीने का कमाती हैं। यहां ये बताना भी जरूरी है कि यूरोपियन चीयरलीडर्स और किसी और देश से आई चीयरलीडर्स के वेतन में अंतर होता है। इन चीयरलीडर्स का वेतन उनके देश की करेंसी के हिसाब से तय होता है.

================================================

सिर्फ एक क्लिक करके पढ़े आज की सभी बड़ी खास खबरें :  क्लिक करें

यहाँ क्लिक करें और देखें बॉलीवुड की सबसे बड़ी खबर ख़बरें :  बॉलीवुड लेटेस्ट न्यूज़

सेहत स्पेशल में आज: गर्मी में इन रसीले फलों का करेंगे सेवन तो बच सकते हैं इस खतरनाक बीमारी से, जानें इनके फायदों के बारे में