लिंग का कौन सा साइज़ सामान्य समझा जाता है? क्या पुरुषों के लिंग का बड़ा होना जरुरी है? क्या महिलाओं के लिए साइज़ मेटर करता है, khabarspecial news, Sehat News, Sehat Samachar, Health News, Health Tips, लिंग लंबा करना, मूत्र-रोग और पुरुष स्वास्थ्य विशेषज्ञ संगठन, लिंग के साइज़ से फर्क तो पड़ता है, लिंग का कौन सा साइज़ सामान्य माना जाता है, खबरस्पेशल न्यूज़, खबरस्पेशल हिंदी समाचार, सेहत सम्बन्धी खबरें

नई दिल्ली, खबरस्पेशल न्यूज़, मूत्र-रोग और पुरुष स्वास्थ्य विशेषज्ञ संगठन: आज हम अपने रीडर्स को एक ऐसी जानकारी के विषय में अवगत कराने जा रहे हैं जिसपर अक्सर लोग बात करना पसंद नहीं करते है औअर अगर बात भी करते हैं तो बात करते समय बहुत झिझकते हैं यार सरमाते हैं. लेकिन आज शायद इस मुद्दे पर बात करना या लोगों को इसकी जानकारी देना बहुत जरुरी हो गया है.

यह भी पढ़ें: तीसरे दिन भी फिल्म 2.0′ का BOX OFFICE पर धमाका बरक़रार, फिल्म ने बॉक्स अफसर पर रचा इतिहास

आज हम एक नाजुक और बहुत महत्वपूर्ण मुद्दे पर बात करेंगे – लिंग लंबा करना। मुझे रोज ऐसे कई पुरुष और महिलाएँ लिख कर पूछते हैं कि बार-बार ऑरगाज़्म प्राप्त करने के लिए लिंग का साइज़ कितना होना चाहिए? क्या 15 सेमी पर्याप्त होता है? क्या लिंग को बड़ा करवाना चाहिए या अपने साइज़ से असंतुष्ट होने पर क्या करना चाहिए आदि.

इस पर लिखने की तैयारी करते समय मैं कई डॉक्टरों, सेक्स रोग विशेषज्ञों, स्त्री रोग विशेषज्ञों, मूत्र रोग विशेषज्ञों से मिला। मैंने इस दौरान लिंग के साइज़ संबंधी आंकड़े पता किए और दर्जनों पुरुषों और महिलाओं से बात की। मैं भी यह कह कर इस नाजुक मुद्दे से पल्ला झाड़ सकता हूँ कि साइज़-वाइज़ से कुछ नहीं होता बस प्यार होना चाहिए। लेकिन सच यह है कि लिंग के साइज़ से फर्क तो पड़ता है!

महिला के तीव्र ऑरगाज़्म योनि में स्थित पॉइंट जी और ए के उत्तेजित होने से आते हैं। पॉइंट जी योनि की ऊपरी दीवार में स्थित होता है। इस पॉइंट को उत्तेजित करने के लिए पुरुष के पास एक मोटा लिंग होना चाहिए। और मेन पॉइंट, जो ए पॉइंट है, योनि में गहरे अंदर स्थित होता है और इसके लिए लिंग का पर्याप्त लंबा होना जरूरी है.

यह भी पढ़ें: जीत के बाद विराट कोहली का मजेदार रिएक्शन वाला वीडियो हुआ वायरल, फेन्स जमकर उठा रहे हैं वीडियो का लुफ्त

लिखते हुए अच्छा नहीं लगता लेकिन एक छोटे लिंग से इस बिन्दु तक नहीं पहुंचा जा सकता जिससे औरत को कभी भी एक साथ कई तीव्र ऑरगाम्स की अनुभूति नहीं हो सकती.

चलिए साइज़ की बात करते हैं। कौन सा साइज़ सामान्य माना जाता है? हम यह तो नहीं बता सकते कि कौन सा साइज़ सामान्य माना जाता है लेकिन हम औसत लिंग साइज़ के बारे में जरूर बताएँगे।

16-18 सेमी: यह एक कड़े लिंग का औसत साइज़ होता है। मैं मानता हूँ इसे पढ़कर कई लोगों ने चैन की साँस ली होगी लेकिन फिर भी औरतों को कुछ ज़्यादा की ही चाह होती है…

18-20 सेमी: इस साइज़ को बड़ा माना जाता है। इस तरह के लिंग वाले मर्द अपने साइज़ पर गर्व कर सकते हैं। ऐसी महिलाएँ जिनके पति या बॉयफ्रेंड के लिंग इतने लंबे हैं, उन्हें कभी भी ऑरगाज़्म में समस्या नहीं आती.

यह भी पढ़ें: अब पारदर्शी डिब्‍बे में बैठकर इस तरह ले सकेंगे शिमला की बर्फबारी वादियों का मजा, जानिए पूरी खबर

20 सेमी से ज़्यादा: ये साइज़ बहुत बड़ा माना जाता है। वैसे कई लड़के कहते हैं कि उनका लिंग इतना लंबा है, लेकिन इस तरह का साइज़ काफी कम लोगों का ही होता है। 1% से भी कम पुरुषों के लिंग का यह साइज़ होता है। ऐसे मर्दों से लड़कियों का दिल धड़कने लगता है और ये लड़कियों के बीच चर्चा में बने रहते हैं।

14-16 सेमी: लिंग का यह साइज़ पर्याप्त माना जाता है। “पर्याप्त” शब्द के बाद भी इस साइज़ से औरतों को संतुष्ट कर पाना आम तौर पर काफी मुश्किल होता है। लेकिन मेडिकल साइंस के हिसाब से यह साइज़ बिल्कुल सामान्य है।

12-14 सेमी: इस साइज़ को छोटा माना जाता है। दुर्भाग्य से इस साइज़ से औरत को संतुष्ट कर पाना लगभग असंभव होता है। इस स्थिति में पुरुष को लिंग लंबा करने के बारे में सोचना चाहिए।

12 सेमी से कम: यदि खड़े लिंग की लंबाई 12 सेमी से कम है तो ऐसे लिंग को माइक्रोपीनस या सूक्ष्म-लिंग कहते हैं। ऐसे लिंगों पर लड़कियाँ अधिकतर हँसती हैं और ऐसे लड़के चुटकुलों और हास्य का विषय होते हैं। ऐसी स्थिति में किसी चमत्कार की कोई उम्मीद नहीं होती और केवल आधुनिक तरीकों से ही समस्या हल की जा सकती है।

छोटे लिंग वाले पुरुषों को क्या करना चाहिए? ऐसे में डिप्रेस होने या समस्या को नज़रअंदाज़ करने से बचना चाहिए। ऐसे पुरुषों को समस्या हल करने की जरूरत होती है। आज ऐसे दो तरीके उपलब्ध हैं जिनसे आप अपनी सेक्स क्रिया को बेहतर कर सकते हैं.

यह भी पढ़ें: पूर्व वरिष्ठ आईएएस अधिकारी सुनील अरोड़ा ने संभाला देश के 23वें मुख्य चुनाव आयुक्त का कार्यभार

विधि 1, ऑपरेशन आजकल कई अस्पतालों में यह सुविधा उपलब्ध है। इस तरीके के नुकसान ये हैं कि इससे लिंग को नुकसान पहुँच सकता है। इस प्रक्रिया में एनेस्थीशिया दिया जाता है जिससे पहले 2-3 महीने में खड़े होने में समस्याएँ आ सकती हैं या बहुत दर्द भी हो सकता है।

विधि 2, घरेलू तरीका इस तरीके में खास तरह की कैप्सूल ली जाती हैं। मैंने जितने भी सेक्सुयल हैल्थ डॉक्टरों और मूत्र रोग विशेषज्ञों से बात की है, वे सभी कहते हैं कि आज के दिन लिंग लंबा करने के लिए बाजार में बहुत सी दबाइयाँ उपलब्ध हैं.

कैप्सूल ही सबसे बेहतरीन विकल्प हैं। ये कैसे काम करती है? सेक्स या हस्तमैथुन के पहले एक कैप्सूल लें। आपका तुरंत बढ़िया खड़ा हो जाएगा। आप यह भी देखेंगे कि पहली बार लेने के बाद ही आपका लिंग लंबा हो गया है। इस कैप्सूल को खाने के बाद आपका लिंग 3-7 सेमी बड़ा हो जाएगा। इस कैप्सूल के नियमित उपयोग (कम से कम एक माह) से आपको मिले नतीजे लंबे समय तक बरकरार रहेंगे.

1. लिंग की लंबाई बढ़ जाना: खड़े लिंग का साइज़ 3-7 सेमी बढ़ गया। हम दीर्घकालीन प्रभाव की बात कर रहे हों जो कोर्स के एक माह बाद से दिखने लगते हैं।

2. तीव्र ऑरगाज़्म: लिंग की संवेदनशीलता और कामेच्छा बढ़ जाने के कारण पुरुषों को तीव्र ऑरगाज़्म मिला।

3. संभोग का समय बढ़ जाना: संभोग का समय बहुत बढ़ गया। यह बहुत महत्वपूर्ण होता है क्योंकि यदि पुरुष का जल्दी झड़ जाए तो महिला सेक्स का आनंद नहीं ले पाती।

4. तीव्र खड़ापन: सेक्स उत्तेजना तेजी से आती है; पूरे संभोग के दौरान खड़ेपन में तीव्रता बनी रहती है।

5. लिंग मोटा हो गया: पूरी तरह और जल्दी खड़े होने के साथ ही लिंग मोटा भी हो गया था जिससे औरतों का पॉइंट जी उत्तेजित होकर उन्हें पूरी संतुष्टि मिलने लगी।

6. शुक्राणु क्वालिटी: सेक्स करने के बाद स्खलित होने वाले शुक्राणुओं की मात्रा और गुणवत्ता, दोनों में सुधार देखा गया.

================================================

सिर्फ एक क्लिक करके पढ़े आज की सभी बड़ी खास खबरें :  क्लिक करें

यहाँ क्लिक करें और देखें बॉलीवुड की सबसे बड़ी खबर ख़बरें :  बॉलीवुड लेटेस्ट न्यूज़

तीसरे दिन भी फिल्म 2.0′ का BOX OFFICE पर धमाका बरक़रार, फिल्म ने बॉक्स अफसर पर रचा इतिहास